Headlines News :
डूबते हुए सूरज ने कहा- 'मेरे बाद इस संसार में मार्ग कौन दिखलायेगा? कोई है जो अंधेरों से लड़ने का साहस रखता हो?' और फिर एक टिमटिमाता हुआ दीया आगे बढ़ कर बोला -- 'मैं सीमा भर कोशिश करूँगा!' - सलीम खान, लखनऊ/पीलीभीत, उत्तर प्रदेश Email: swachchhsandesh@gmail.com
.
Home » » कन्हैया कुमार, फिर भी यह एक लंबी राजनीतिक लड़ाई है. It is long term struggle, Kanhaiya Kumar.

कन्हैया कुमार, फिर भी यह एक लंबी राजनीतिक लड़ाई है. It is long term struggle, Kanhaiya Kumar.

Written By Saleem Khan on बुधवार, 9 मार्च 2016 | 7:09:00 pm

कन्हैया कुमार ने अपनी रिहाई के बाद जेएनयू में जो भाषण दिया, वह बहुचर्चित हो चुका है। उसके बाद अलग-अलग टीवी चैनलों को उन्होंने कई इंटरव्यू दिए। मीडिया की चर्चाओं में स्वाभाविक रूप से उनके वक्तव्यों के उन हिस्सों की ज्यादा चर्चा हुई, जिनमें उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और राष्ट्रीय स्वयंसेवक पर निशाना साधा। यह हमला इतना तीखा था कि उससे भारतीय जनता पार्टी विचलित हुई। इसकी मिसाल उसके नेताओं के बयान हैँ। संघ खेमे की की प्रतिक्रिया तो उसके अपेक्षा के अनुरूप ही हिंसक बयानबाजी रही।
 
लेकिन इनसे अलग कन्हैया कुमार ने कुछ ऐसा भी कहा, जिसका संदर्भ दूरगामी है। उन्होंने कहा कि इस वक्त संघर्ष की रेखाएं साफ खिंची हुई हैँ। इसमें एक तरफ आरएसएस और उसकी सोच से सहमत ताकतें हैं और दूसरी तरफ प्रगतिशील शक्तियां। कहा जा सकता है कि मौजूदा समय में भारत के मुख्य सामाजिक अंतर्विरोध के बारे में किसी और नेता ने ऐसी साफ समझ बेहिचक सार्वजनिक रूप से सामने नहीं रखी है। इसीलिए कन्हैया ने एक स्वर में सीताराम येचुरी से लेकर राहुल गांधी, अरविंद केजरीवाल और उन तमाम लोगों का आभार जताया जो जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय तथा राजद्रोह के मामले में उनके समर्थन में सामने आए। इस सिलसिले में कन्हैया कुमार ने यह महत्त्वपूर्ण बात बार-बार कही कि इस लड़ाई में कई दायरे टूटे हैँ। इस पर उन्होंने संतोष जताया। इसे भविष्य की उम्मीद बताया।
यह दायरा टूटने की ही झलक थी कि जेएनयू के मुद्दे पर दिल्ली में निकले बहुचर्चित जुलूस में एनएसयूआई, एसएफआई, एआईएसएफ, आइसा तथा दूसरे छात्र संगठन एक साथ शामिल हुए। किसी पार्टी या संगठन से ना जुड़े हजारों नौजवानों एवं बुद्धिजीवियों-कलाकारों की वहां उपस्थिति राष्ट्रवाद की भगवा समझ थोपने की एनडीए सरकार की कोशिशों से फैलती उद्विग्नता और आक्रोश का प्रमाण थी। इस सिलसिले में एक घटना खास उल्लेखनीय है। 
 
30 जनवरी को राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की पुण्यतिथि के दिन राहुल गांधी हैदराबाद में रोहित वेमुला की आत्महत्या के खिलाफ छात्रों के विरोध कार्यक्रम में शामिल हुए। शाम को उन्होंने वहां मौजूद नौजवानों को संबोधित किया। उपस्थित श्रोताओं में अंबेडकरवादी व्यक्तियों की बहुसंख्या थी। मगर वहां राहुल गांधी ने अपना भाषण गांधीजी को श्रद्धांजलि देते हुए शुरू किया। गुजरे दशकों में गांधी के प्रति अंबेडकरवादी समूहों का कड़ा आलोचनात्मक रुख जग-जाहिर रहा है। लेकिन वहां राहुल गांधी के भाषण के बीच कोई टोका-टाकी नहीं हुई। अबेंडकरवादी श्रोता समूह ने धीरज और सहिष्णुता के साथ गांधी की तारीफ में कहे गए शब्द सुने।
 
कन्हैया कुमार की गिरफ्तारी के बाद राहुल गांधी जेएनयू पहुंचे तो वहां श्रोता समूह में बहुसंख्या वाम रुझान वाले छात्रों-शिक्षकों की थी। राहुल गांधी सीताराम येचुरी और डी राजा जैसे नेताओं के साथ बैठे। फिर भाषण दिया। एक बार फिर सबका ध्यान मुद्दे पर रहा। आपसी राजनीतिक मतभेद वहां गौण हो गए।
 
kanhaiyaकन्हैया कुमार ने अपनी रिहाई के बाद जब मीडिया को दिए इंटरव्यू में मार्क्स, अंबेडकर, पेरियार, फुले, गांधी, नेहरू के नाम एक क्रम में लिए, तो जाहिर है उनके ध्यान में देश में होता वही ध्रुवीकरण रहा होगा, जो इस वक्त का तकाजा है। आधुनिक भारत का विचार इन तमाम और अन्य कई (मसलन, बिरसा मुंडा) विरासतों का साझा परिणाम है। भारत के इस विचार के जन्म और आगे बढ़ने का इतिहास 1857 के पहले स्वतंत्रता संग्राम से शुरू होता है। इस विचार के सार-तत्व को एक वाक्य में कहना हो तो वो यह होगा कि भारतीय भूमि पर जन्मा हर व्यक्ति भारतीय है और उसका दर्जा समान है। सबके आर्थिक हित समान हैं, विचारों का खुलापन, एक-दूसरे की जीवन-शैली के प्रति सहिष्णुता, लोकतंत्र, सामाजिक-आर्थिक न्याय और प्रगति का एजेंडा भारतीय राष्ट्रवाद की इस विचारधारा के आधार हैँ।
 
धर्म आधारित राष्ट्रवाद के विचार से उपरोक्त भारतीय राष्ट्रवाद का संघर्ष स्वतंत्रता आंदोलन के दिनों से जारी है। 2014 के आम चुनाव में उभरे जनादेश से हिंदू राष्ट्रवाद का विचार देश की केंद्रीय सत्ता पर काबिज हो गया। इससे न्याय एवं स्वतंत्रता की दिशा में हुई वह तमाम प्रगति खतरे में पड़ गई है, जो भारतीय जनता ने अपने लंबे संघर्ष से हासिल की। इस पृष्ठभूमि को ध्यान में रखें तो कन्हैया कुमार की बातों का महत्त्व स्वयंसिद्ध हो जाता है।
 
यह संकट का समय है, लेकिन उम्मीद की किरण यह है कि भारतीय जन के एक बड़े हिस्से ने समय रहते इसकी पहचान कर ली है। सांप्रदायिक राष्ट्रवाद के बरक्स न्याय और प्रगति की विचारधाराओं से प्रेरित राष्ट्रवाद की शक्तियां जाग्रत हो रही हैँ। कन्हैया कुमार से जुड़े घटनाक्रम ने इस विश्वास को मजबूती दी है। कन्हैया के भाषणों को मिली लोकप्रियता मिसाल है कि आधुनिक भारत के सपने को नया जन-समर्थन मिल रहा है
 
रोहित वेमुला और कन्हैया कुमार के मामलों से सामाजिक विषमता एवं विभाजनों पर परदा डालकर अन्याय और गैर-बराबरी की व्यवस्था को कायम रखने के प्रयोजन बेनकाब हुए हैँ। जेएनयू में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के तीन नेताओं का अपने संगठन से इस्तीफा इसकी ही मिसाल था। वे तीनों मनुस्मृति जलाना चाहते थे, लेकिन उनके संगठन ने उसकी इजाजत नही दी। यह घटना बताती है कि हिंदुत्व के नाम पर जातीय (प्रकारांतर में आर्थिक) शोषण को मजबूत रखने की कोशिशों का सफल होना आज कठिन है। बाबा साहेब अंबेडकर के सपनों और उद्देश्य को नाकाम करने के लिए उनकी जय बोलने का पाखंड ज्यादा देर तक नहीं चल सकता।   
 
फिर भी यह एक लंबी राजनीतिक लड़ाई है। बेशक इसका तात्कालिक परिणाम आने वाले सभी चुनाव नतीजों से तय होगा। मगर इसके साथ उस आधार पर प्रहार करना भी जरूरी है जिस वजह से पुराने आधिपत्य को कायम रखने पर आमादा ताकतें आधुनिक समय में भी अपनी चुनाव प्रणाली के अंदर राजनीतिक बहुमत बना लेने में सफल हो जाती हैँ। यह आधार वर्ग-विभाजन, जातिवाद और अज्ञानता के कारण कायम है। इस बुनियाद तो तोड़ना तभी संभव है जब वर्तमान बहस को विकल्पों पर विचार की तरफ ले जाया जाए। कन्हैया कुमार ने इसमें योगदान किया है। रोहित वेमुला और जेएनयू प्रकरणों से इस दिशा में आगे बढ़ने की संभावना बनी है।
 
डिसक्लेमर : ऊपर व्यक्त विचार लेखक के अपने हैं///SRNBT
Share this article :

0 पाठकों ने अपने विचार व्यक्त किये:

Speak up your mind

Tell us what you're thinking... !

भारत में मुस्लिम आबादी कितनी है?

ट्रैफ़िक हवलदार

मैं फ़ेसबुक पर भी हूं, पसन्द का चटका लगाएं…
सलीम खान से परिचय

स्वामी लक्ष्मी शंकराचार्य जी का साक्षात्कार

Interview PART 1 Interview PART 2

Google+ Followers

अगर आप मेरे काम को पसन्द करते है और इसे और ज़्यादा बढ़ता देखना चाहते हैं तो बराए मेहरबानी इस काम के लिए मदद कीजिये. आप जो भी मदद देना चाहें वो आप swachchhsandesh@gmail.com पर मेल करके इत्तिला ज़रूर कर दीजिये.

Muslim-Helpline

1 800 11 0088

Toll Free Helpline No: 1800-110-111
(powered by TwoCircle.net)
स्वच्छ सन्देश फैन्स क्लब
इस ब्लॉग का कोई भी कॉपीराईट नहीं है. इस ब्लॉग के लेख, विचार या तत्व कोई भी, कहीं भी प्रयोग कर सकता है.

All India Bloggers Association

All India Bloggers Association
Join This Community

लेबल

स्वच्छसन्देश (71) सलीमख़ान (57) मेरी ग़ज़ल (37) नारी (31) इस्लाम (29) इस्लाम और नारी के अधिकार (29) ईश्वर (29) मुसलमान (27) Featured (24) हिन्दुत्व (22) साम्प्रदायिकता (19) साम्प्रदायिकता का निवारण (18) बाबरी मस्जिद (17) ग़लतफहमियों का निवारण (16) हिन्दू-विद्वानों के विचार (16) स्वच्छ सन्देश (14) सामाजिक मुद्दे (13) माँसाहार या शाकाहार (12) माँसाहार (11) मेरी कहानियाँ (10) शाकाहार (10) ज़िन्दगी की आरज़ू (8) ज्वलन्त मुद्दे (8) निर्दोष मुसलमान (8) इस्लामिक बैंकिंग प्रणाली (6) बहन फिरदौस (5) विज्ञान की आवाज़ (5) सलीम खान (5) सुअर (5) सुवर (5) Hindusm and Islam (4) अज़ान का अर्थ (4) अज़ान में सम्राट अकबर (4) अमर उजाला (4) आर एस एस झूठा (4) राष्ट्रवाद की परिकल्पना (4) वेद और कुरआन (4) आतंक-परिवार (3) आतंकवादी (3) गौमाता (3) जलजला अथवा ज़लज़ला (3) जहाज़ तो उड़ेगा ही (3) समलैंगिकता (3) Hazrat Ali (RA) (2) JAGJIT SINGH (2) JNU (2) RSS (2) SIO (2) islamhindi (2) अंतिम अवतार (2) अंधेरे से उजाले की ओर (2) आजतक (2) आतंक परिवार (2) आतंकवाद (2) आरएसएस (2) आशा (2) इस्लाम का इतिहास (2) इस्लाम ज़िंदा हो गया (2) इस्लाम में लड़कियों की शिक्षा (2) एक से अधिक पत्नी (2) औरत (2) काबा की शक्ल जैसा शराबखाना (2) कार्टूनिस्ट युसुफ़ (2) क्या खोया क्या पाया (2) गोधरा (2) जनगणना (2) ज़लज़ला (2) ज़ाकिर अली रजनीश (2) ज़िन्दगी (2) जिन्हें नाज़ है हिन्द पर (2) जिहाद (2) जूनियर ब्लॉगर्स एसोशियेशन (2) फर्ज़ी भगवान (2) मिश्रा जी (2) मीडिया क्रिएशन (2) मुझे पसंद है (2) मोदी मॉडल राज (2) मोहल्ला (2) ये लखनऊ की सरज़मीं (2) राष्ट्रवाद (2) राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (2) शाहनवाज़ सिद्दीकी (2) स्वच्छ सन्देश की चुनौती (2) 15 AUGUST (1) Aspects of Sex (1) Black Day of Blogging (1) Blogger Mahendra (1) Communal Nationalism in India (1) EJAZ AHMAD IDREESI (1) Ghazal of MEER TAKI (1) India First (1) Indian Police man converts in ISlam (1) KASHIF ARIF (1) Narendra Modi (1) Nudism (1) SEX (1) bewafa (1) boycott republic day (1) eve teasing (1) ghazal of sahir ludhiyanvi (1) ghazal of शमीम (1) indian muslim (1) lata haya (1) noor jahan (1) queen of voice (1) rape (1) अनम (1) अपशब्द (1) आरज़ू (1) आरज़ू ओ सलीम (1) इस्लामी शरीअत में समलैंगिकता (1) ईश्वर की कल्पना (1) उदारवादी मुस्लिम (1) एक हिन्दुस्तानी (1) कन्या भ्रूण-हत्या (1) काफिरों के त्यौहारों (धार्मिक समारोहों) में भाग लेने का हुक्म (1) काशिफ आरिफ़ (1) काशिफ़ आरिफ़ (1) खुश रहे तू सदा (1) घण्टा-घर (1) जागो मुसलमानों जागो (1) जापान और इस्लाम (1) जेएनयू (1) टोपी (1) तहलका (1) देशद्रोह (1) धर्म-परिवर्तन (1) धूम्रपान (1) न निराश करो मन को (1) नियोग (1) पाठकों की आवाजाही (1) पानी (1) प्रवीण शुक्ला जी (1) प्रोफाइल दृश्य (1) फतवा (1) फिरोज बख्त अहमद (1) बलात्कारियों को मौत (1) बाबरी मस्जिद के हत्यारे (1) बाबा रामदेव (1) बैन (1) ब्लॉग एग्रीगेटर का सौन्दर्य (1) ब्लॉगवाणी vs इन्डली (1) ब्लोगवाणी (1) भक्ति के नाम पर मस्ती (1) भगवा आतंकवाद (1) भारतीय मीडिया (1) भोजपुरी ब्लॉगर्स एसोशियेशन (1) भ्रष्टचार की जड़ (1) भ्रष्टाचार (1) मंसूर अहमद (1) मुलिम मतदाता (1) मुसलमानों का इतिहास (1) मुस्लिम ओर्गेनाइज़ेशन (1) मुस्लिम मतदाता (1) मुस्लिम समाज की आवाज़ (1) मूर्तिपूजक (1) मेहर (1) मोहम्मद उमर कैरान्वी (1) यह रोज़ा क्या है? (1) यह सन 2070 है (1) यौन-अनाचार (1) राम या रावण (1) रोज़ा के प्रभाव (1) लहू बेचकर अपना मैंने कमाई है ज़िल्लत कैसी (1) वंदे मातरम (1) वन्दे-मातरम् (1) वर्ल्ड ट्रेड सेंटर (1) विश्व पर्यटन दिवस (1) शांति का कारवाँ (1) श्रीराम सेना (1) सद्दाम हुसैन (1) सलीम खान की चुनौती (1) सामूहिक ब्लॉग (1) सुप्रीम कोर्ट (1) हिन्दू (1)
 
Support : Saleem Khan | Lucknow | Uttar Pradesh
Proudly powered by Blogger
No Copyright © 2014. स्वच्छ सन्देश - No Copy Rights Reserved
Template Design by Creating Website Published by Mas Template