शुक्रवार, 12 फ़रवरी 2010

सलीम ख़ान के पत्रकार भाई समीउद्दीन नीलू (यू पी पुलिस द्वारा उत्पीड़ित) को मानवअधिकार आयोग से राहत, यू पी सरकार को ५ लाख मुआवजा देने का निर्देश

बचपन से सुना करते थे कि ऊपर वाले के यहाँ देर है अंधेर नहीं ! लेकिन देश के मौजूदा सड़े हुए तंत्र में जिस तरह से आम जनता का भरोसा उठ गया है वह भी एक गंभीर समस्या ही है. समीउद्दीन नीलू उत्तर प्रदेश के लखीमपुर ज़िले में विगत एक दशक से ज़्यादा समय से हिंदी दैनिक समाचार पत्र अमर उजाला में बतौर संवाददाता अपनी सेवा कर रहें हैं. शीर्षकान्तर न हो इसलिए मैं यह बताना चाहूँगा कि कैसे मेरे भाई को यूपी की बल्कि लखीमपुर-खीरी की एस पी 'पद्मजा' ने अपने सरकारी पॉवर का दुरुपयोग करते हुए मानवता के क्रूरतम, तंत्र के दुष्टतम कृत्य को मात्र अपने गलत व समाज विरोधी कार्यों को छिपने के उद्देश्य से, जान से मारने की कोशिश (एनकाउन्टर) की और अपने नीचे कार्य करने आले पुलिस वालों की सहायता के ज़रिये उन्हें वन्य जीव अधिनियम के केस में फ़र्ज़ी तरीक़े से जेल भिजवा दिया.

लेकिन कहते हैं कि सांच को आंच नहीं, बस कुछ ऐसा ही हुआ. लखनऊ मंडल और बरेली मंडल में वकीलों, किसानों, मजदूरों, पत्रकारों और हाकरों द्वारा किये गए जन-आन्दोलन के चलते प्रशासन के बालों में जूं रेंगी और उन्हें लगभग 9 दिन जेल में रहने के बाद राहत नसीब हुई. मैं जब उनसे मिलने जेल गया था (मैं जेल ही पहली मर्तबा गया था) वहां कैदियों की हालत देख मेरे तो रोये खडे हो गए. अपने भाई को जेल में इस तरह बंद देख मैं खूब रोया. मेरे सबसे छोटे चाचा जो कि पीलीभीत बार एसोशियेशन के अध्यक्ष है अपने सहयोगी वकीलों के साथ उन्हें देखने आये. इस तरह से उन्हें लगभग 9 दिनों के बाद प्रशासन ने जेल से रिहा करने के निर्देश दे दिए. मामला विधान सभा और विधानं परिषद् में भी उठा....
सम्बंधित खबर यहाँ पढ़ें...


अ×Ú ©ÁæÜæ â¢ßæÎÎæÌæ ÙèÜê ·ô 5 Üæ¹ LÂØð Îð ØêÂè âÚ·æÚÚæcÅþèØ ×æÙßæçÏ·æÚ ¥æØô» Ùð ·è â¢SÌéçÌ
¥Øæð» Ùð ×æÙæ, ÂéçÜâ ·æ ÃØßãæÚ çÙ¢ÎÙèØ

Ù§ü çÎËÜè/¹èÚèÐ
ÚæcÅþèØ ×æÙßæçÏ·æÚ ¥æØô» Ùð ÂéçÜâ …ØæÎÌè ·ð çàæ·æÚ ¥×Ú ©ÁæÜæ ·ð ܹè×ÂéÚ ¹èÚè â¢ßæÎÎæÌæ â×è©Î÷ÎèÙ ÙèÜê ·ô ØêÂè âÚ·æÚ mæÚæ Â梿 Üæ¹ LÂØð ·è ¥æçÍü· âãæØÌæ çΰ ÁæÙð ·è â¢SÌéçÌ ·è ãñÐ ÙèÜê ·ô ©â â×Ø ÂéçÜâ ÂýÌæǸÙæ ·æ çàæ·æÚ ÕÙæØæ »Øæ ÁÕ ßã ¥çÖÃØçvÌ ·è SßÌ¢˜æÌæ ·ð ¥ÂÙð â¢ßñÏæçÙ· ¥çÏ·æÚô´ ·ð ¥¢Ì»üÌ ¥ÂÙè ÇKêÅè ÂÚ ÍðÐ ¥æØô» Ùð Úæ…Ø ·ð ×éwØ âç¿ß âð ·æÚüßæ§ü ·ð ÕæÚð ×ð´ Àã âŒÌæã ×ð´ çÚÂôÅü ÎðÙð ·ô Öè ·ãæ ãñÐ


ÙèÜê ·ð ×æ×Üð ×ð´ ¿æÚ ÈÚßÚè 2010 ·ô ·æÚüßæ§ü ·ÚÌð ãé° ©â·ð Âêßü ·ð çàæ·æØÌ Â˜æ ·ð ×Î÷ÎðÙÁÚ ¥æØô» Ùð ×æÙæ ãñ ç· Øã ×æ×Üæ Ù çâÈü °· ÂéçÜâ ¥ÈâÚ ·è çÁÎ, ÎéÃØüßãæÚ ·æ ãñ ßÚÙ °· ÃØçvÌ ·ð çÁ¢Îæ ÚãÙð ·ð ¥çÏ·æÚ ·ô ¹ÌÚð ×ð´ ÇæÜ ÎðÙð ·æ ãñÐ ¥æØô» Ùð Øã Öè ©ËÜð¹ ç·Øæ ç· âç¿ß, Úæ…Ø âÚ·æÚ ØêÂè Ùð 10 ÙߢÕÚ 2009 ·ð ¥ÂÙð ˜æ ×ð´ Øã Sßè·æÚ ç·Øæ ãñ ç· Øã ·ðâ ÙèÜê ·ð ×æÙßæçÏ·æÚ ãÙÙ ·æ âèÏæ ×æ×Üæ ãñÐ

§â ×æ×Üð ×ð´ ©ËÜð¹ÙèØ ãñ ç· ÂýàææâÙ ·æ ÙÁçÚØæ ˜æ·æÚ ·ð ×æÙßæçÏ·æÚ ·ð ãÙÙ ·ô Ìô ·æÈè ·× ·Ú·ð ¥æ¢·Ùð ·æ Úãæ ÁÕç· Îôáè ¥ÈâÚô´ ¹æâ·Ú ̈·æÜèÙ °âÂè °Ù ÂÎ÷×Áæ ·ô Õ¿æÙð ·æ ÚãæÐ §â·ð ¿ÜÌð ÙèÜê ·ô ÛæêÆð ×é·Î×ð ×ð´ È¢âæØæ »Øæ ¥õÚ ÁðÜ ×ð´ Öè Ú¹æ »Øæ.

4 टिप्‍पणियां:

  1. bhai aap aur aapke bhai k dar ko mahaz mahsoos hi kiya ja sakta hai.aur hamne jiasa mahsoos kiya vo rooh ko larzaan karne sa hai.
    abhi sisitersharmila ki yahi post par bhi comment kar aaya hoon.
    khudaa aapko ab jeet ki zapt de.aur bhai ko khoob khoob mubaarak baad.

    shahroz

    जवाब देंहटाएं
  2. þèØ ×æÙßæçÏ·æÚ ¥æØô» Ùð ÂéçÜâ …ØæÎÌè ·ð çàæ·æÚ ¥×Ú ©ÁæÜæ ·ð ܹè×ÂéÚ ¹èÚè â¢ßæÎÎæÌæ â×è©Î÷ÎèÙ ÙèÜê ·ô ØêÂè âÚ·æÚ mæÚæ Â梿 Üæ¹ LÂØð ·è ¥æçÍü· âãæØÌæ çΰ ÁæÙð ·è â¢SÌéçÌ ·è ãñÐ ÙèÜê ·ô ©â â×Ø ÂéçÜâ ÂýÌæǸÙæ ·æ çàæ·æÚ ÕÙæØæ »Øæ ÁÕ ßã ¥çÖÃØçvÌ ·è SßÌ¢˜æÌæ ·ð ¥ÂÙð â¢ßñÏæçÙ· ¥çÏ·æÚô´ ·ð ¥¢Ì»üÌ ¥ÂÙè ÇKêÅè ÂÚ ÍðÐ ¥æØô» Ùð Úæ…Ø ·ð ×éwØ âç¿ß âð ·æÚüßæ§ü ·ð ÕæÚð ×ð´ Àã âŒÌæã ×

    जवाब देंहटाएं
  3. क्या मालूम2 मार्च 2010 को 6:08 pm

    काश तेरे भाई की जगह तेरी धुलाई होती गंदे सलीम ख़ान, तो मज़ा आ जाता। यू दुष्ट कहीं के।

    जवाब देंहटाएं

टिप्पणियाँ , आलोचनाएँ और सराहनाएं लेखक को और अधिक लिखने के लिए प्रोत्साहित करती है, इसलिए लेख पढने पर आपको कैसा लगा यह ज़रूर टिपण्णी करें.

धन्यवाद.

सलीम खान (संरक्षक, स्वच्छ सन्देश

डूबते हुए सूरज ने कहा- 'मेरे बाद इस संसार में मार्ग कौन दिखलायेगा? कोई है जो अंधेरों से लड़ने का साहस रखता हो?' और फिर एक टिमटिमाता हुआ दीया आगे बढ़ कर बोला -- 'मैं सीमा भर कोशिश करूँगा!' - सलीम खान, लखनऊ/पीलीभीत, उत्तर प्रदेश Email: swachchhsandesh@gmail.com
.

भारत में मुस्लिम आबादी कितनी है?